राहुल गांधी की पदयात्रा: मणिपुर से मुंबई तक 6700 किलोमीटर का अन्याय के खिलाफ सफर

मणिपुर के थौबल जिले की पावन धरती से 14 जनवरी, 2024 को शुरू हुई राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा सिर्फ एक पदयात्रा नहीं है.

बल्कि देश की नब्ज टटोलने और उसके जख्मों पर मरहम लगाने का एक संकल्प है।

भारी अन्याय, बेरोजगारी के साये और एकाधिकार के गढ़ते महल के सामने उम्मीद की किरण जगाने का मिशन है।

मणिपुर से कन्याकुमारी तक 15 राज्यों और 6700 किलोमीटर का सफर तय करते हुए यह यात्रा देश को उसकी आत्मा से मिलाने की कोशिश करेगी।

उन्होंने कहा, "भारत भारी अन्याय का सामना कर रहा है। सरकार की नीतियों ने आम जनता की कमर तोड़ दी है। करोड़ों युवा बेरोजगार हैं, छोटे-मोटे कारोबार चौपट हैं और अमीर और अमीर हो रहे हैं।"

उन्होंने कहा, "जिसे आप मणिपुर कहते थे, वो अब रहा ही नहीं। यहां की व्यवस्था चौपट हो चुकी है, लेकिन केंद्र सरकार के पास इसकी सुध तक नहीं है। प्रधानमंत्री कभी इन पीड़ितों के बीच नहीं आए, उनके आंसू पोंछने की कोशिश नहीं की।"

पूरा आर्टिकल डिटेल में पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करे.