पीयूष मिश्रा के जन्मदिन पर जानें उनसे जुड़ी कुछ अनसुनी बातें

पीयूष मिश्रा, हिंदी सिनेमा जगत का एक जाना-पहचाना नाम, जिनकी बहुमुखी प्रतिभा ने उन्हें अभिनय, गीत-लेखन और निर्देशन के क्षेत्र में अलग मुकाम दिलाया है।

1963 में ग्वालियर के एक मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मे पीयूष बचपन से ही कला के प्रति समर्पित थे।

नके माता-पिता सरकारी नौकरी करते थे, लेकिन आर्थिक तंगी के कारण उन्हें अपने बेटे को बुआ के पास छोड़ना पड़ा।

पीयूष मिश्रा अपनी बेबाकी के लिए भी जाने जाते हैं। वह अक्सर सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर अपनी राय रखते हैं और समाज में बदलाव लाने का प्रयास करते हैं।

पीयूष मिश्रा ने अपने करियर में कई हिट फिल्मों में काम किया है, जिनमें "गैंग्स ऑफ वासेपुर", "गुलाल", "तमाशा", "रिवॉल्वर रानी", "कागज", "उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक" और "शेरशाह" शामिल हैं।

पीयूष मिश्रा अपनी कला को अपने जीवन का अभिन्न अंग मानते हैं। उनकी कविताएं, गीत और फिल्मों के किरदार उनके जीवन के अनुभवों से प्रेरित होते हैं।

उनकी आत्मकथा "तुम्हारी औकात क्या है" में उन्होंने बचपन में हुए यौन उत्पीड़न के अपने दर्दनाक अनुभव को भी साझा किया है।

Merry Christmas Box Office Collection: ‘ठंडी’ रही कैटरीना-विजय की नई मूवी, इतनी हुई कमाई