क्यों होता है महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक सिरदर्द?

सिरदर्द एक आम समस्या है जो लगभग सभी को कभी न कभी प्रभावित करती है।

हालांकि, यह सर्वविदित है कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक बार सिरदर्द का अनुभव करती हैं, विशेष रूप से माइग्रेन से पीड़ित होने की संभावना उनकी दोगुनी होती है।

हाल ही में किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि 2.9% पुरुषों की तुलना में लगभग 6% महिलाएं सिरदर्द से पीड़ित होती हैं।

यह आंकड़ा स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि महिलाओं में सिरदर्द की समस्या अधिक आम है।

शोधकर्ताओं का मानना है कि हार्मोनल उतार-चढ़ाव महिलाओं में सिरदर्द का प्राथमिक कारण है।

एस्ट्रोजन, एक प्रमुख महिला सेक्स हार्मोन, मस्तिष्क के उन क्षेत्रों को प्रभावित करता है जो दर्द संकेतों को संसाधित करते हैं।

मासिक धर्म चक्र के दौरान एस्ट्रोजन के स्तर में परिवर्तन, जैसे कि एस्ट्रोजन का गिरना, सिरदर्द को ट्रिगर कर सकता है।

माइग्रेन एक तीव्र, मिरगी जैसा सिरदर्द होता है जो अक्सर तेज रोशनी, ध्वनि और गंध के प्रति संवेदनशीलता के साथ होता है।

दुनिया भर में 17% महिलाएं माइग्रेन से पीड़ित हैं, जबकि पुरुषों में यह संख्या 8.6% है।

पर्याप्त नींद न लेना तंत्रिका तंत्र को प्रभावित कर सकता है और सिरदर्द को बढ़ा सकता है। व्यस्त जीवनशैली के कारण महिलाएं अक्सर नींद से वंचित रह जाती हैं

सिरदर्द की समस्या से निजाद पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके पूरा आर्टिकल पढ़े.